झलकारी बाई जन्मदिवस की समस्त देशवाशियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें

झलकारी बाई जन्मदिवस की समस्त देशवाशियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें पूरा नाम : झलकारी बाई जाति : कोरी जन्म : 22 नवम्बर 1830 जन्म स्थान : भोजला ग्राम पिता : सदोबा सिंह कोरी माता : जमुना देवी विवाह : पूरन सिंह कोरी झलकारी बाई का जन्म एक साधारण #कोरी परिवार में हुआ था। वेपढ़ना जारी रखें “झलकारी बाई जन्मदिवस की समस्त देशवाशियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें”

रावण दहन की सच्चाई

राम लक्षमण भरत शत्रुघ्न उनकी माताओ के द्वारा खीर खाने से पैदा हुए। राजा जनक का एक नग्न स्त्री को देखकर वीर्य टपक गया जो धरती में गिरा अगले दिन सीता एक बलीहारे के खेत में पायी गयी। हनुमान के पसीने से एक मादा मगरमच्छ pregnant हो गयी और उसने मकरध्वज को जन्म दिया। हनुमानपढ़ना जारी रखें “रावण दहन की सच्चाई”

बिना जाने कोई भी कार्य के बाद आखिर मे रोना ही पड़ता है ।।

एक बार राजा ने खुश होकर लोहार को चंदन का बाग भेंट कर दिया लोहार को चंदन के पेड़ कि उपयोगिता और किमत का अंदाजा नहीं था इसलिए उसने पेड़ो को काटकर उन्हें जलाकर उसका कोयला बनावर बेचना शुरू कर दिया,,, ऐसा करते-करते, धीरे-धीरे सारा बाग खाली हो गया,,, एक दिन राजा घुमते हुऐ लोहारपढ़ना जारी रखें “बिना जाने कोई भी कार्य के बाद आखिर मे रोना ही पड़ता है ।।”

🛕एक बार एक गांव में🛕 *मंदिर*🛕का काम चल रहा था,🛕मंदिर *आदिवासी* और🛕 *गरीब* लोग बना रहे थे,🛕एक *आदिवासी बड़ी*🛕 *मूर्ति बना रहा था!*🛕कुछ दिन बाद *मंदिर*🛕बनकर🛕 तैयार हो गया,🛕मंदिर में *पुजारियो* द्वारा🛕 *हवन कार्य मूर्ति*🛕 *स्थापना*🛕और *मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा*🛕आदि कार्य सम्पन्न हो गया,🛕अगले दिन *मन्दिर दर्शन*🛕के लिए खोल दिया।🛕वह *मूर्तिकार* जिसने🛕 मूर्ति🛕बनाई वो भी *दर्शन*पढ़ना जारी रखें

तार्किक_रामायण_भगवान श्रीराम क्षत्रिय थे या ब्राह्मण ?

तार्किक_रामायण _ ———————– १. भगवान श्रीराम क्षत्रिय थे या ब्राह्मण ? २. भगवान श्रीराम का जन्म उनके माता पिता कौशिल्या और दशरथ के यौन व्यवहार से नहीं हुआ था तो वे क्षत्रिय कैसे हुआ ? ३. राजा दशरथ का चौथापन याने 75 वर्ष पार हो गया था इतने अधिक उम्र में संतानोत्पत्ति असंभव होता हैपढ़ना जारी रखें “तार्किक_रामायण_भगवान श्रीराम क्षत्रिय थे या ब्राह्मण ?”

Brahman kaun hai

🚫ब्राह्मण कौन? 🚫 ब्राह्मण दो शब्दों से मिल कर बना है वाराह +मण =वाराहमण वाराह का अर्थ है सुअर और मण का अर्थ गुह या गंदगी। 🐖इस प्रकार से ब्राह्मण का अर्थ है सुअर का गुह🐖 🐽ब्राह्मणों में ऊंच नीच जातियों का वर्गीकरण🐽 जिसके दो ✌️ या दो से ज्यादा बाप होते हैं उसे हीपढ़ना जारी रखें “Brahman kaun hai”

!!! एक प्रेरक बोधकथा : लचीलेपन का एहसास !!!

🌻 !!! एक प्रेरक बोधकथा : लचीलेपन का एहसास !!! 🌻 —————————————————————————- #एक बार तथागत बुद्ध अपने शिष्य के साथ जंगल में जा रहे थे | ढलान पर से गुजरते समय अचानक शिष्य का पैर फिसला और वह तेजी से नीचे की ओर लुढ़कने लगा | वह खाई में गिरने ही वाला था कि तभीपढ़ना जारी रखें “!!! एक प्रेरक बोधकथा : लचीलेपन का एहसास !!!”

कविता-पाटलिपुत्र की गंगे से

* कपिलवस्तु लुम्बिनी से पूछो* *पूछो मगध धरा की धार* *पूछो तक्षशिला से जाकर* *नालंदा था महाविहार* *नंद बंश के टुकड़े कर दूं* *चंद्रगुप्त की हूँ तलवार* *रहा सिकंदर हमसे पीछे* *सेल्युकस उसका मनुहार* *जस्टिन की मां से जा पूछो* *हेलना थी किसके दरबार* *पूछो इंडिका के पन्नों से* *भरा पड़ा है सब इतिहास* *पूछोपढ़ना जारी रखें “कविता-पाटलिपुत्र की गंगे से”

धर्म बड़ा है, या संविधान ?

भारत मे संविधान ने जो नारी/ स्त्री को दिया वो आज तक कोई भगवान क्यों नही दे सका 👉धर्म के अनुसार सती प्रथा सही है लेकिन संविधान के अनुसार गलत #और_प्रतिबंधित_है 👉धर्म के अनुसार नारी को शिक्षा का अधिकार नहीं है लेकिन #संविधान_के_अनुसार_है 👉धर्म ने नारी को समानता का अधिकार नहीं दिया लेकिन #संविधान_ने_दिया_है 👉धर्मपढ़ना जारी रखें “धर्म बड़ा है, या संविधान ?”

Create your website with WordPress.com
प्रारंभ करें