गौतमबुद्ध म्यूजिक प्रोडक्शन खदिया नगला भरखनी

Lal Bihari baudh लाल बिहारी बौद्ध

अत्यंत दुःखद समाचार। आज बहुजन समाज के महान योद्धा व अंतरराष्ट्रीय बौद्ध महासभा के अध्यक्ष आदरणीय लाल बिहारी बौद्ध परिनिर्वाण को प्राप्त हो गये हैं ।प्रकृति उनकी चेतना को शांति दें। 🌹🌹🌹🙏🙏🙏🌹🌹🌹 तथागत बुद्ध से प्रार्थना है कि परिनिब्बत आत्मा को शांति प्रदान करे,एवं उनके परिवार पर पड़े इस असीम दुःख को सहन करने कीपढ़ना जारी रखें “Lal Bihari baudh लाल बिहारी बौद्ध”

खदिया नगला भरखनी budhpurnima San 2021

🌹 आप सबको नमो. बौद्ध🌹 बुद्ध ने ज्ञान के सार को कुल 55 बिंदुओं में समेट दिया। चार – आर्य सत्य पाँच – पंचशील आठ – अष्टांगिक मार्ग और अड़तीस – महामंगलसुत बुद्ध के चार आर्य सत्य 1. दुनियाँ में दु:ख है। 2. दु:ख का कारण है। 3. दु:ख का निवारण है। और 4. दु:खपढ़ना जारी रखें “खदिया नगला भरखनी budhpurnima San 2021”

ग्राम भरखनी पंचायत चुनाव सर्वे 2021

🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲 📝📝📝📝📝📝📝📝📝📝📝📝📝📝📝 तेरहवाँ शिलालेख पाँच यवन (यूनानी) राजाओं का उल्लेख करता है, जिनके राज्यों में सम्राट अशोक ने धर्मदूत भेजे थे: 1. अंतियोक (सीरिया नरेश) 2. तुरमय (मिस्री नरेश) 3. अंतिकिनी (मेसीडोनिया नरेश) 4. मक (एपीरस नरेश) 5. अलिकसुंदर (सिरीन नरेश) दूसरा शिलालेख साक्ष्य देता है कि सम्राट अशोक ने यवन साम्राज्य बैक्ट्रियापढ़ना जारी रखें “ग्राम भरखनी पंचायत चुनाव सर्वे 2021”

मन को मंगल कामनाओं से भर देने को भगवान बुद्ध ‘मैत्री भावना’ कहते हैं !

🔔🔔🔔 मैत्री भावना 🔔🔔🔔 मन को मंगल कामनाओं से भर देने को भगवान बुद्ध ‘मैत्री भावना’ कहते हैं ! मैत्री भावना करनेवाला : — 1. सुख की नीँद सोता है 2. तरोताज़ा जागता है 3. दुःस्वप्न नहीँ आते 4. मनुष्योँ मेँ प्रिय होता है 5. अमनुष्योँ मेँ प्रिय होता है 6. देवता उसकी रक्षा करतेपढ़ना जारी रखें “मन को मंगल कामनाओं से भर देने को भगवान बुद्ध ‘मैत्री भावना’ कहते हैं !”

मंदिर प्रवेश के प्रारंभ में घंटा क्यो होता है? देवदासी प्रथा क्या है?

मंदिर प्रवेश के प्रारंभ में घंटा क्यो होता है??? देवदासी प्रथा ब्रह्मणी संस्कृति का एक पुराना और काला अध्याय है। उस प्रथा मे ‘ब्राह्मण’ गरीब आदिवासी या शूद्र (ओबीसी )की छोटी बालिकाओं को देवताओ को समर्पित होने का नाम देकर उनके माता पिता से दूर कर मंदिर में हवस का शिकार बनाता था। ब्राह्मण मंदिरपढ़ना जारी रखें “मंदिर प्रवेश के प्रारंभ में घंटा क्यो होता है? देवदासी प्रथा क्या है?”

154 विधान सभा शवायजपुर 2021 में कुशवाहा समाज के प्रधानो की सूची

शास्त्री राहुल सिंह बौद्ध कुशवाहा खदिया नगला भरखनी जिला हरदोई

भारतीय जातीय व्यवस्था,परम आदरणीय रजनी कांत शास्त्री जी की कलम से

यादव क्षत्रिय से अहीर-भट्टी राजपूत से नाई आदि ब्राह्मणि बढ़ई आदि जाति-परिवर्तन द्वारा जिस प्रकार कितनी जातियाँ हिन्दू समाज के निम्न स्तरों से उटकर ऊपर की चली गई है, उसी प्रकार कितनी ही जातियाँ ऊपर से नोचे को चली आई है। उदाहरणत:, यदुवंशीय क्षत्रिय राजकुमार आहुक के वंशधर अहीर हो गए। शक्तिसंगमतंत्र में लिखा है,पढ़ना जारी रखें “भारतीय जातीय व्यवस्था,परम आदरणीय रजनी कांत शास्त्री जी की कलम से”

क्या यह नाथूराम गोडसे अंग्रेजो के खिलाफ एक भी दिन जेल गया था? Yadunandan Lal Verma Lodhi Rajput

क्या यह नाथूराम गोडसे अंग्रेजो के खिलाफ एक भी दिन जेल गया था? क्या इस नाथूराम गोडसे ने अंग्रेजों पर एक भी गोली चलाई थी? यदि यह क्रातिकारी था तो क्या इसने क्रांतिकारियों की कोई मदद की थी? नाथूराम गोडसे को मुसलमानों का अत्याचार तो दिखाई पड गया लेकिन ब्राह्मण जो दलितों पिछडो पर अन्यान्यपढ़ना जारी रखें “क्या यह नाथूराम गोडसे अंग्रेजो के खिलाफ एक भी दिन जेल गया था? Yadunandan Lal Verma Lodhi Rajput”

Create your website with WordPress.com
प्रारंभ करें